फिर कर शुरुवात …

नन्हे क़दमों से शुरू किये
जो सफ़र कोमल हाथों के सहारे
लो आज मांगे साथ दुबारा
तुम नहीं तो जग बेगाना

फिर आ कड़ी हूँ मैं चौराहे पर
किस राह पर मंजिल लिखी हैं ?
काले बादलो से लगता हैं दर
तुम्हारे आँचल में समेट, होना हैं बेफिकर

याद हैं मुझे वो एक रूपये का सिक्का
रोज जमा कर मुझे अमीर बना देना
कब बन गयी तीन रूपये का जुगाड़
कर दिया हर नसीयत तेरी बिगाड़

लो कहो ‘ फिर कर शुरुवात…’
ख्वाब शीशों का नहीं, यकीन दिला दो
तुम्हारी छोटी छोटी बातों में छिपा हैं खज़ाना

लो आज मांगे साथ दुबारा
तुम नहीं  तो जग बेगाना …

Pic courtesy : http://tweetymom.files.wordpress.com

7 thoughts on “फिर कर शुरुवात …”

  1. @Amit Gupta:
    thank u yaar…i feel good to be back too:)

    @Unknown:
    now thats a bloody long time…i had shifted to micro-blogging!!
    in this new innings which was impromptu, i plan to bore even more 🙂
    kya different hoga yaar…from twitter to blogger, no restriction of 140, baaki vahi pakana aur pakna 🙂

    Nikita
    thanks girl!! it feels so nice to be back here…hopefully, i can blog some more!

  2. Fr Jerry
    Same here! Its a pleasant surprise for me too and i hope adding you to my blog list is very much required!
    thank you, Fr for never deleting me from your blog list.

    peter
    thanks for the red carpet, peter lekin yeh aaj kal ke naujawaan ko kya ho gaya hain…Rashtrabaasha Hindi ko nahi samajthe!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *